FinanceInsuranceMortgageTechBusinessTravelLegalHealth/FitnessSportsFashionRenovationReviews

No. 1 Free Social Classifieds. Best Social Classifieds, Fonolive.com.

radhasoami instagram hashtags, hashtags meanings radhasoami images, #radhasoami tag pics

radhasoami
radhasoami
radhasoami Radha soami ji #radhaswamisatsangbeas #radhasoami #radhasoamiji #beas #rssb
Likes: 775
Posted at: 2019-09-15 11:45:58
radhasoami Tum Prem Ho (Reprise)  Link is in the bio, full video available on YouTube! Music - @bharatkamalofficial  #radhakrishn #radhakrishna #radha #radhakrishnan #radhasoami #radhakrishnfc #sumedhmudgalkar #sumedh #sumedhians #mallikasingh #mallikasingh_official @mallika_singh_officiall @beatking_sumedh @iammohitlalwani #mohitlalwani #mohitlalwani_fc
Likes: 3576
Posted at: 2019-07-13 10:35:11
Tum Prem Ho (Reprise) Link is in the bio, full video available on YouTube! Music - @bharatkamalofficial #radhakrishn #radhakrishna #radha #radhakrishnan #radhasoami #radhakrishnfc #sumedhmudgalkar #sumedh #sumedhians #mallikasingh #mallikasingh_official @mallika_singh_officiall @beatking_sumedh @iammohitlalwani #mohitlalwani #mohitlalwani_fc
radhasoami मौजुदा बाबा जी गुरिंदर सिंह जी ढिल्लों के जन्मदिन की सभी प्यारे सतसंगी भाई बहनों और दोस्तों को हार्दिक शुभकामनायें....
हैपी बर्थडे प्यारे बाबा जी...
Congratulations to All Sangat😊
.#radhasoami #radhasoamiJi #babaji #rssb #dera #beas #karnal #waheguru #waheguruji #spirituality #spiritual #suvichar #true #love #quotes #followme
#happybirthday #follow #follow4follow #followforfollow
#instagood #tbt #instadaily
#celebrate #happy #instadaily #friends #repost #nature #smile
Likes: 617
Posted at: 2019-08-01 05:01:47
मौजुदा बाबा जी गुरिंदर सिंह जी ढिल्लों के जन्मदिन की सभी प्यारे सतसंगी भाई बहनों और दोस्तों को हार्दिक शुभकामनायें.... हैपी बर्थडे प्यारे बाबा जी... Congratulations to All Sangat😊 .#radhasoami #radhasoamiJi #babaji #rssb #dera #beas #karnal #waheguru #waheguruji #spirituality #spiritual #suvichar #true #love #quotes #followme #happybirthday #follow #follow4follow #followforfollow #instagood #tbt #instadaily #celebrate #happy #instadaily #friends #repost #nature #smile
radhasoami Radha soami ji #radhaswamisatsangbeas #beas #satsang #radhasowamiji🙏 #radhasoami #radhasoamishabad #satguru #radhasoamijisachkhandkiraah #rssb #rsji #radhasowamiji #radhasoami_jii #radhaswami #video #rupnagar #punjab #india #canada #candighar
Likes: 1654
Posted at: 2019-06-22 02:50:03
radhasoami Radha soami ji #radhaswamisatsangbeas #radhasowamiji🙏 #radhasoami #beas #rssb #radhasoamiji #kurali #ropar #morinda #moga #me
Likes: 969
Posted at: 2019-09-02 07:12:08
radhasoami 😍😍Look sooooo cutest face of little Krishna....😘😘 Cutie pie my kishu..🤗🤗innocent face..🎼🎼🎵lovely music🎶🎶
RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏 जय श्री कृष्णा 🙏🙏
👉Editor @diwani_kanha_k
#radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan  #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop  #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #mumbai #diwani_kanha_k
Likes: 15
Posted at: 2019-09-18 20:07:36
😍😍Look sooooo cutest face of little Krishna....😘😘 Cutie pie my kishu..🤗🤗innocent face..🎼🎼🎵lovely music🎶🎶 RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏 जय श्री कृष्णा 🙏🙏 👉Editor @diwani_kanha_k #radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #mumbai #diwani_kanha_k
radhasoami Radhey_ka_kanha

Episode-3 
With the passing of childhood, Radhakrishna came closer to each other in childhood due to his archaic love. Along with the people around, Krishna's mother Yashoda was also witnessing this divine experience with surprise.

#krishn #radhasoami #radhakrishnaserial #serial #episode #artistic #artgallery #animearts #animation #fairytailedits #lovestorys #lovers #loveu #liketime #liketkit #art🎨 #radhakrishna #following #instagram
#insta
Likes: 97
Posted at: 2019-09-18 18:00:55
Radhey_ka_kanha Episode-3 With the passing of childhood, Radhakrishna came closer to each other in childhood due to his archaic love. Along with the people around, Krishna's mother Yashoda was also witnessing this divine experience with surprise. #krishn #radhasoami #radhakrishnaserial #serial #episode #artistic #artgallery #animearts #animation #fairytailedits #lovestorys #lovers #loveu #liketime #liketkit #art🎨 #radhakrishna #following #instagram #insta
radhasoami #beas #satguru #radhasoamiderabeas #radhasoami #radhasoamiji #rssb #rssbquote #rssbbeas #satsang #satsangmestregualberto #satsangsatyaprem
Likes: 89
Posted at: 2019-09-18 16:19:55
radhasoami #sewa #simran #shabad #rssb #radhasoamiji  #radhaswami #babaji #beas #dera #santmat #radhasoamiji🙏 #radhaswami_ji_mehar_kro🙏 #radhasoamijisachkhandkiraah #radhasoamisatsangbeas  #radhasoamiderabeas #santmat #derabeas  #radhaswamispritual  #radhasoami #satsang #rssb_beas #sukar.datya #baba_ji_ka_beta_ #radhasoami_ruhani_safar_ #radha_soami_satsang_beas__ #derababajaimalsinghji 
#satsang_sewa_simran #radhasoami_satlok_anaami #radha_soami_satsang_beas1
Likes: 31
Posted at: 2019-09-18 15:55:38
radhasoami 🙏🙏खुल गए सारे ताले ओए क्या बात हो गई 
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गई🙏🙏
RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏
👉Editor @diwani_kanha_k
 #radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan  #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop  #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #mumbai #diwani_kanha_k
Likes: 63
Posted at: 2019-09-18 13:16:46
🙏🙏खुल गए सारे ताले ओए क्या बात हो गई जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गई🙏🙏 RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏 👉Editor @diwani_kanha_k #radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #mumbai #diwani_kanha_k
radhasoami 😍😍Memorizing Darshan of lord krishna at krishna's temple🙏peaceful krishna flute dhun🎶🎶🎵🎼
RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏
👉Editor @diwani_kanha_k
Credit goes to @krishnastemple #radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan  #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop  #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #mumbai #diwani_kanha_k
Likes: 66
Posted at: 2019-09-18 06:24:14
😍😍Memorizing Darshan of lord krishna at krishna's temple🙏peaceful krishna flute dhun🎶🎶🎵🎼 RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏 👉Editor @diwani_kanha_k Credit goes to @krishnastemple #radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #mumbai #diwani_kanha_k
radhasoami Radha soami ji #radhasoamispritual #radhasoami #radhasoamiji #radhasowamiji #beas #rssb #bathinda #ropar #chandigarh #amritsar #morinda #moga #punjab #2020
Likes: 833
Posted at: 2019-09-18 06:13:18
radhasoami Blissful Krishna flute dhun......🎵🎵🎶🎼
RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏
👉Editor @diwani_kanha_k
#radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan  #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop  #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #mumbai #diwani_kanha_k
Likes: 59
Posted at: 2019-09-17 17:43:39
Blissful Krishna flute dhun......🎵🎵🎶🎼 RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏 👉Editor @diwani_kanha_k #radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #mumbai #diwani_kanha_k
radhasoami #sewa #simran #shabad #rssb #radhasoamiji  #radhaswami #babaji #beas #dera #santmat #radhasoamiji🙏 #radhaswami_ji_mehar_kro🙏 #radhasoamijisachkhandkiraah #radhasoamisatsangbeas  #radhasoamiderabeas #santmat #derabeas  #radhaswamispritual  #radhasoami #satsang #rssb_beas #sukar.datya #baba_ji_ka_beta_ #radhasoami_ruhani_safar_ #radha_soami_satsang_beas__ #derababajaimalsinghji 
#satsang_sewa_simran #radhasoami_satlok_anaami #radha_soami_satsang_beas1
Likes: 98
Posted at: 2019-09-17 09:37:31
radhasoami 😍😍Look memorizing Darshan of lotus feet of lord krishna 🙏🙏beautiful bhajan🎵🎵🎶🎶
जय श्री कृष्णा🙏🙏🙏
RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏
👉Editor @diwani_kanha_k
#radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan  #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop  #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #delhi 
#diwani_kanha_ki
Likes: 74
Posted at: 2019-09-17 09:11:51
😍😍Look memorizing Darshan of lotus feet of lord krishna 🙏🙏beautiful bhajan🎵🎵🎶🎶 जय श्री कृष्णा🙏🙏🙏 RADHE RADHE 🙏🙏🙏🙏 👉Editor @diwani_kanha_k #radhe #iskon #barsana #radhakrishna #art #gopal #artistsoninstagram #oilpainting #music #soundcloud #radhasoami #vrindavan #happiness #slowmotion #slomo #haribol #radha #radheradhe #jaishreekrishna #mahakal #artist #motion #photoshop #pictures #motiongraphics #digitalartist #artoftheday #artwork #delhi #diwani_kanha_ki
radhasoami #sewa #simran #shabad #rssb #radhasoamiji  #radhaswami #babaji #beas #dera #santmat #radhasoamiji🙏 #radhaswami_ji_mehar_kro🙏 #radhasoamijisachkhandkiraah #radhasoamisatsangbeas  #radhasoamiderabeas #santmat #derabeas  #radhaswamispritual  #radhasoami #satsang #rssb_beas #sukar.datya #baba_ji_ka_beta_ #radhasoami_ruhani_safar_ #radha_soami_satsang_beas__ #derababajaimalsinghji 
#satsang_sewa_simran #radhasoami_satlok_anaami #radha_soami_satsang_beas1
Likes: 40
Posted at: 2019-09-17 08:47:31
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 7
Posted at: 2019-09-17 07:23:06
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 6
Posted at: 2019-09-17 07:22:50
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 2
Posted at: 2019-09-17 07:22:29
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 3
Posted at: 2019-09-17 07:22:13
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 4
Posted at: 2019-09-17 07:21:52
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 2
Posted at: 2019-09-17 07:21:39
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 5
Posted at: 2019-09-17 07:21:24
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 4
Posted at: 2019-09-17 07:21:09
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 4
Posted at: 2019-09-17 07:20:53
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 3
Posted at: 2019-09-17 07:20:39
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 4
Posted at: 2019-09-17 07:20:25
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 1
Posted at: 2019-09-17 07:20:12
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 4
Posted at: 2019-09-17 07:19:58
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 2
Posted at: 2019-09-17 07:19:44
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 3
Posted at: 2019-09-17 07:19:29
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 3
Posted at: 2019-09-17 07:19:16
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 2
Posted at: 2019-09-17 07:18:57
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 2
Posted at: 2019-09-17 07:18:43
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 0
Posted at: 2019-09-17 07:18:29
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 3
Posted at: 2019-09-17 07:18:15
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 0
Posted at: 2019-09-17 07:17:59
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 1
Posted at: 2019-09-17 07:17:44
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 1
Posted at: 2019-09-17 07:17:29
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 1
Posted at: 2019-09-17 07:17:15
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 4
Posted at: 2019-09-17 07:17:00
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 1
Posted at: 2019-09-17 07:16:48
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 0
Posted at: 2019-09-17 07:16:33
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 1
Posted at: 2019-09-17 07:16:19
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 0
Posted at: 2019-09-17 07:16:06
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 2
Posted at: 2019-09-17 07:15:51
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 3
Posted at: 2019-09-17 07:15:38
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 0
Posted at: 2019-09-17 07:15:21
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 7
Posted at: 2019-09-17 07:15:10
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
radhasoami #राधास्वामीपंथकीसच्चाई
#saintrampalji
#radhasoamiji #rssb #radhasoami
#moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad
#gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami

#kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel
#Saint_Rampal_ji
#Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था।
प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर  हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई 
जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी।
राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं ।
राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं-
अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार।
और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल
फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,
Likes: 1
Posted at: 2019-09-17 07:14:54
#राधास्वामीपंथकीसच्चाई #saintrampalji #radhasoamiji #rssb #radhasoami #moksha #bhakti #Satnam #satsang #hookah #bhajan #sewa #gurbani #parshad #gurugranthsahib #waheguruji #waheguru#RealityOfRadhasoami #kabir_is_god#SupremeGod#SA_News_Chennel #Saint_Rampal_ji #Allah_kabir #sanews 💠राधास्वामी पंथ शहर आगरा पन्नी गली निवासी श्री शिव दयाल सिंह जी से चला है। राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक श्री शिव दयाल जी का कोई गुरु जी नहीं था। प्रमाण :- पुस्तक ’’जीवन चरित्र स्वामी जी महाराज’’ पृष्ठ 28 💠श्री शिव दयाल सिंह जी ने 17 वर्ष तक कोठे में अर्थात् बन्द स्थान पर बैठ कर हठ योग किया। इनकी किसी भी प्रमाणित संत की साधना से मेल नहीं खाती जिनको परमात्मा मिले... जैसे- नानक जी, धर्मदास जी, दादू दास जी, गरीब दास जी आदि। 💠श्री जयमल सिंह जी सेना से रिटायर हुए सन् 1889 में अर्थात् श्री शिवदयाल सिंह जी (राधा स्वामी) की मत्यु के 11 वर्ष पश्चात् सेवा निव्रत होकर 1889 में ब्यास नदी के किनारे डेरे की स्थापना करके स्वयंभू संत बनकर नाम दान करने लगे। 💠श्री शिवदयाल जी (राधास्वामी) के कोई गुरु नहीं थे। श्री जयमल सिंह जी (डेरा ब्यास) ने जिस समय दीक्षा प्राप्त की सन् 1856 में उस समय श्री शिवयाल सिंह जी साधक थे। शिवदयाल जी संत 1861 में बने तब उन्होंने सत्संग प्रारम्भ किया था। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है जबकि सारवचन वार्तिक पृष्ठ 8 वचन 12 में लिखा है कि आत्माएं सतलोक में सतपुरुष (परमात्मा) का दर्शन करती हैं तो फिर परमात्मा निराकार कैसे हुए। 💠राधास्वामी पंथ के प्रवर्तक बताते हैं कि परमात्मा निराकार है उसका प्रकाश देखा जा सकता है। पर वेदों में साफ़ साफ़ लिखा है कि परमात्मा साकार (नर आकार ) है। 💠राधा स्वामी पंथ के प्रवर्तक शिवदयाल जी की जीवनी में लिखा है की शिवदयाल जी अपनी शिष्या बुक्की के शरीर में प्रवेश करके हुक्का पीते थे। मतलब साफ़ है वो प्रेत वश ऐसा करते थे उनकी मुक्ति नहीं हुई जब गुरु की ही मुक्ति नहीं हुई तो दूसरों की कैसे होगी। राधास्वामी पंथ में 5 नाम देते हैं, मोक्ष मन्त्र इनके पास नहीं हैं । राधास्वामी पंथ का ज्ञान बिल्कुल शास्त्र विरुद्ध है। 💠कबीर परमेश्वर कहते हैं- अमल आहारी आत्मा कबहु न उतरे पार। और शिवदयाल जी हुक्का पीते थे। 🙏पढ़ें सभी शास्त्रों से प्रमाणित आध्यात्मिक पुस्तक ज्ञान गंगा,, जीने की राह,, गीता तेरा ज्ञान अमृत,, अंधश्रद्धा भक्ति खतरा ए जान,, निशुल्क पाए व्हाट्सएप मैसेज द्वारा 7496801823 घर बैठे बिल्कुल फ्री,,फ्री,,फ्री,, फ्री,